Thursday, December 9, 2010

'दाग़ ए दिल' {Ghazal} -Hafeez Merathi

अजीब लोग हैं क्या मुंसिफ़ी की है
हमारे क़त्ल को कहते हैं ख़ुदकुशी की है

ये बांकपन था हमारा के ज़ुल्म पर हमने
बजाए नाला-ओ-फ़रियाद शायरी की है

ज़रा से पांव भिगोए थे जाके दरिया में
ग़ुरूर ये है कि हमने शनावरी की है

इसी लहू में तुम्हारा सफ़ीना डूबेगा
ये क़त्ल-ऐ-आम नहीं तुमने ख़ुदकुशी की है

हमारी क़द्र करो चौदहवीं के चाँद हैं हम
ख़ुद अपने दाग़ दिखाने को रौशनी की है

उदासियों को 'हफ़ीज़' आप अपने घर रखें
के अंजुमन को ज़रूरत शगुफ़्तगी की है

4 comments:

Dr. Ashok palmist blog said...

अनवर जमाल जी नमस्कार !
बहुत ही खूबसूरत रचना है

Minakshi Pant said...

हमारी क़द्र करो चौदहवीं के चाँद हैं हम
ख़ुद अपने दाग़ दिखाने को रौशनी की है



बहुत ही खुबसूरत बात कही आपने दिल खुश हो गया !

RameshGhildiyal"Dhad" said...

Janaab Anwar Jamaal Saheb, aadab.

jamaane ko kisi se gurej nahin
Shumar hain dosto men, parhej nahin..

main ek qutra hoon! joshe dariya baha le jaega maaloom hai....... Apne hisse ki harquten kyun chhod doon....

Meri Aarzuon ko manzil na mili tamanno ki qashti ko sahil na mila!
Qutl karke mere maasoom armaano ka,
quatil kehta hai ke quatil na mila!

idharudhar said...

Hafeez sahab ki aur ghazalen/nazme
post karen to meharbani hogi. khas taur par "Jazeeren"

Mahtab