Wednesday, September 15, 2010

Thanks to a great swami भारतीय मुस्लिम जगत सदा शंकराचार्य जी का आभारी रहेगा कि उन्होंने पवित्र कुरआन की 24 आयतों के पत्रक छापकर नफ़रत फैलाने वाले गुमराहों की अंधेर दुनिया को सत्य के प्रकाश से आलोकित कर दिया है। - Anwer Jamal

पवित्र कुरआन एक मौज्ज़ा और चमत्कार है। यह नफ़रतों को ख़त्म करता है और मुहब्बत पैदा करता है । यह अपने विरोधियों को अपनी ओर खींचता है और अपना बना लेता है। कुरआन इस्लाम का आधार है। इस्लाम हमेशा कुरआन के बल पर फैला है। कुरआन अपनी सत्यता को खुद मनवा रहा है। यह एक ऐसा चमत्कार है जिसे आज भी देखा जा रहा है। स्वामी जी ने पहले कुरआन के विरोध में किताब लिखी लेकिन उनका दिल साफ़ था इसीलिये जब उन्हें सत्य का ज्ञान हुआ तो उन्होंने सब के सामने कुरआन का सत्य रख दिया और बता दिया कि इस्लाम आतंक नहीं आदर्श है, जो जानना-मानना चाहे वह जान-मान ले कि कल्याण के लिए मुहब्बत की ज़रूरत है नफ़रत की नहीं । वास्तव में सबका मालिक एक है।
भारतीय मुस्लिम जगत सदा शंकराचार्य जी का आभारी रहेगा कि उन्होंने पवित्र कुरआन की 24 आयतों के पत्रक छापकर नफ़रत फैलाने वाले गुमराहों की अंधेर दुनिया को सत्य के प्रकाश से आलोकित कर दिया है।
 वे धन्यवाद के पात्र हैं और उनके साथ ही भाई ऐजाज़-उल-हक़ भी ,

अल्लाह मालिक, सबका मालिक एक ।
मान लो उसको और हो जाओ नेक ।।

इसके बाद भी कुछ लोग सत्य तथ्य को नहीं मानेंगे, उन्हें शैतान समझना चाहिये। उनका काम फ़ित्ने फैलाना होता है। उनके कुछ आक़ा होते हैं वे उनके प्रति जवाबदेह होते हैं। यह किताब उन गुमराह अफ़वाहबाज़ों की शिनाख्त के लिए भी एक बेहतरीन कसौटी का काम देगी।
शंकराचार्य जी ने बता दिया है कि एक आदर्श भगवाधारी को कैसा होना चाहिये ?
जिसके भी दिल में भगवा रंग के लिये आदर है, उसे उनका अनुसरण करना चाहिये ताकि आने वाले कल में कोई किसी भी रंग को आंतकवाद से जोड़ने की धृष्टता न कर सके।

10 comments:

Dr. Ayaz Ahmad said...

अच्छी पोस्ट

Dr. Ayaz Ahmad said...

स्वामी जी का भी धन्यवाद और एजाज भाई का भी धन्यवाद

इस्लामिक वेबदुनिया said...

अच्छी खबर अब यह है की स्वामी जी की यह पुस्तक अब भारत जनसेवा प्रकाशन, नई दिल्ली ने अच्छे तरीके से प्रकाशित की है.इस किताब को मंगवाने के लिए इन नंबर पर संपर्क किया जा सकता है- 09212117559, 09212567559

और जल्दी ही यह पुस्तक अँग्रेज़ी,उर्दू में आएगी, स्वामी जी नेकदिल इंसान है और वे पूरे मुल्क में इस्लाम के संदेश को लोगों को बता रहें.

Anwar Ahmad said...

स्वामी जी का भी धन्यवाद और एजाज भाई का भी धन्यवाद,
मैं स्वामी जी से मुलाक़ात कर चुका हूँ , स्वामी जी एक नेक दिल इन्सान हैं,

URDU SHAAYRI said...

NICE

URDU SHAAYRI said...

बेस्ट

वन्दे ईश्वरम vande ishwaram said...

वंदे ईश्वरम का नया अंक मगाँने के लिए अपना पता vandeishwaram@gmail.com पर email करें

imran said...

एक बार फिर आपकी बेहतरीन पोस्ट पढ़ी अच्छा लगा

URDU SHAAYRI said...

एक किरदारे- बेकसी है माँ
जिंदगी भर हँसी है माँ ।

Mahak said...

nice post